अंकेक्षण क्या है अंकेक्षण के फायदे और नुकशान क्या है

हेलो दोस्तों आज का आर्टिकल बहुत लोकपर्य है जिसमे आप आसानी से पता कर सकते है अंकेक्षण से आप क्या समझते है अंकेक्षण के उद्देश्य ,लाभ एव सीमाओं को समझाइये ?

प्राचीन कल में हिसाब किताब रखने के प्रणाली अपूर्ण थी क्योकि व्यापारिक संस्थाए छोटी होती है इनके लेनदेन भी काम होते है और पूंजी की मात्रा भी कम होती है जो लोग व्यापर करते है वो लोग की हिसाब किताब रखते है लकिन वर्तमान समय में अंकेक्षण का महत्व बड़ गया है।

audititng kya haiअंकेक्षण ,जिसे अंग्रजी में auditing कहते है। और लैटिन भाषा में audire सब्द से लिया गया है जिसका मकसद ( to hear ) सुनना होता है। प्राचीन कल में हिसाब किताब रखने वाले लोग अनुभवी और समझदार लोगो के पास जाते थे। और वे अपने हिसाब किताब को सुनने के बाद अपने निर्णय सुनते है। जिनहे हम आम भाषा में न्यायादिश (Nyayadish) कहा जाता है। अब अंकेक्षण का प्रमुख कार्य रोकड़ व्यवहार (Cash transaction )की जांच ही नहीं है। इसको संस्था के profit and loss account और चिट्टे में दिखाया जाता है।

 

अंकेक्षण को बहुत लोगो ने अपने हिसाब से अलग अलग परिभाषा दिया है उनमे से ये कुछ विद्धान की मह्त्वपूण परिभाष निमंलिखित है।

मॉणटगोमरी :-

के अनुसार अंकेक्षण (Audit ) एक संस्था की पुस्तको तथा सोधो की व्यव्स्तित जांच है जिसमे अंकेक्षण व्यापार के आर्थिक व्यव्हारो का सत्यापन कर सके और उनके परिणामो की अपने अनुशार रिपोर्ट कर सके।

 

लारेन्स आर. डिक्सी

 

के अनुसार अंकेक्षण (Audit ) हिसाब किताब लेखों की जांच हिअ ताकि ये सपस्ट हो सके की पूर्ण रूप से सही है और साथ ये भी निश्चित हो सके की की सभी सौदे के किये गए है।

 

A. w हेंसन

के अनुसार अंकेक्षण सम्पूर्ण लेखो की जांच से है। जिनसे की उन पर विसवास किया जा सके की उनके द्वारा बनाये गए स्टेटमेंट पर विस्वाश किया जा सके।

 

अंकेक्षण के उदेश्ये

 

स्पाइस एव पेंगलर के अनुसार “आंकेक्षण का मुख्ये उद्देश्ये नियोक्ता” उसके कर्मचारियों द्वारा तैयार किये गए खातों एव विवरण की सत्यता को सत्यापित करना है

 

मुख्य उदेस्ये व्यापारिक प्रगति के साथ साथ बदलता रहा है प्रारम्भ में व्यापर का एरिया छोटा होने के कारण अंकेक्षण का

1.मुख्य उदेस्य {main object)

2.सहायक उदेस्य ( subsidiary object)

  • गलतियों का पता करना (detection of errors)
  • गलतियों का पता करना(detection of fraunds)
  • असुद्धियो एव कपटो को रोकना (prevention of erros & fraunds)

3. अन्य उदेस्य (others objects )

  1. सवस्त नैतिक वातावरण उत्पन करना (to create healthy environment)
  2. वैधानिक \व्यवस्थाओ का पालन ( implementing statutory provisions)
  3. सरकारी अधिकारियों को संतुस्ट करना (to satisfy government officers )
  4. प्रबंधको को परामर्श देना (advice to managers)

 

auditing notes bcom 3rd year in hindi auditing books in hindi audit notes in hindi download audit notes in hindi pdf audit notes in hindi for ipcc audit notes in hindi for junior accountant surbhi bansal audit book for ipcc in hindi free download income tax notes only hindi

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here